एहसास

अब तो इंतज़ार ऐसा की हमेशा रुकने के लिए भी तैयार हैं और मिलने की बेचैनी भी.
एक कश्मक़श ऐसी की तेरे हर पन्नों को पढ़ू या तेरे साथ एक नयी किताब लिखूँ?
सवाल ऐसा कि क्या मैं अब और लिखना चाहता हूं?
ख्वाहिश ऐसी की जब भी लिखूँ, उसकी इब्तेदा और अंत तुमसे ही हो.
हज़ारो इल्तिज़ा ऐसी की हर इल्तिज़ा में बस तू हो.
उम्मीद ऐसी की हम मिलेंगे कभी.
और हसरत ऐसी की नहीं मालूम हम कब मिलेंगे; मिलेंगे भी या  नहीं, लेकिन अगर बगल से तू गुज़रे तो कम से कम मुझे एहसास हो जाये. आखिर तेरा गुज़ारना भी मेरे लिए एक मुलाकात है.

यश

Author’s own click. (Back in 2016)

7 comments

  1. Ooohh! I doubt this is Fiction. The one you write all your poems on must be so lucky! She doesn’t even know someone’s writing masterpieces on her. 😂🤦🏾‍♀️
    Bohot hi sundar kavita. I hope your wait will be worth it. Anddd, the photo is again fantastic! Skills toh hain aap mein. 😼

    Liked by 1 person

      • Ohh, that’s lovely! 😻 Is she the reason why you came to WordPress? I think so. 😼 Does she still read your blogs? I hope she does.

        Arey arey, abhi yaad mat dilaao. 😞 I’m dying and I’ve forgotten I have a blog.

        Like

  2. बस यही दुआ है हमारी,
    लिखते हैं आप जिस भी हसीना के लिए,
    खुदा उसे आपके नसीब में लिखकर,
    आपका जहां भी हसीन बनाये।

    I know not written so well,
    But भावनाओं को समझो यार।😅

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s